पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौता / Paris Agreement, 2015

paris agreement 2015

पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौता (CoP-21) / Paris Climate Change Agreement, 2015

  • दिसंबर 2015 में पेरिस में संपन्न जलवायु परिवर्तन समझौते (CoP-21) पर भारत सहित कुल 171 देशोने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान-की-मून द्वारा आयोजित विशेष समारोह में 22 अप्रैल, 2016 ‘पृथ्वी दिवस’ (Earth Day) के अवसर पर हस्ताक्षर किये.
  • भारत की ओर से भारत के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री प्रकाश जावडेकरने हस्ताक्षर किए.
  • यह समझौता 12 दिसंबर 2015 को ही स्वीकार किया गया था.
  • इस समझौते मे भारत के सभी महत्वपूर्ण चिन्ताओ एवं उम्मीदो का समाधान है.
  • ग्रीन हाउस उत्सर्जन में 55% या उससे ज्यादा हिस्सेदारी वाले कम-से-कम 55 देशो द्वारा अनुमोदन की अधिसूचना के 30 दिन बाद ही यह समझौता लागू हो पायेगा.

पेरिस समझौते के महत्वपूर्ण तथ्य:

  1. यह समझौता विकासशील देशों की अनिवार्यताओं को स्वीकारता है और विकास के लिए विकासशील देशो के विकास के अधिकारो एवं पर्यावरण के साथ विकास को मान्यता देता है.
  2. अपनी प्रस्तावना में ही यह जलवायु न्याय को स्वीकार करता है और सतत जीवन शैली तथा विकासशील देशों के साथ उपभोग की सतत प्रणाली के महत्व को भी स्वीकारता है.
  3. समझौते का उदेश्य: यह सुनिश्चित करना कि यह समग्र केन्द्रिक नहीं है तथा अनुकूलनता, नुकशान और क्षति, वित्त, प्रौद्योगिकी, क्षमता-निर्माण तथा कार्यान्वयन की पारदर्शिता व सहयोग शामिल है.
  4. विकसित देशोंं से 100 अरब डॉलर की वित्तीय सहायता के लक्ष्य को वर्ष 2020 तक प्राप्त करने के आह्वान के साथ संपूर्ण रोड मैप इसमें निर्धारित है.

यह भी देखें: मैरीटाइम इण्डिया समिट, 2016

1 thought on “पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौता / Paris Agreement, 2015”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *